Home Categorized नवरात्रि : माँ चंद्रघंटा ( तीसरा दिन )

नवरात्रि : माँ चंद्रघंटा ( तीसरा दिन )

माँ चन्द्रघंटा 

माँ का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है। इनके मस्तक में घंटे का आकार का अर्धचंद्र है, इसी कारण से इन्हें चंद्रघंटा देवी कहा जाता है। इनके शरीर का रंग स्वर्ण के समान चमकीला है। इनके दस हाथ हैं। इनके दसों हाथों में खड्ग आदि शस्त्र तथा बाण आदि अस्त्र विभूषित हैं। इनका वाहन सिंह है। इनकी मुद्रा युद्ध के लिए उद्यत रहने की होती है।घंटे का भी अधिक महत्व है |



कथा 

माँ चन्द्रघण्टा असुरों के विनाश हेतु माँ दुर्गा के तृतीय रूप में अवतरित होती है। जो भयंकर दैत्य सेनाओं का संहार करके देवताओं को उनका भाग दिलाती है। भक्तों को वांछित फल दिलाने वाली हैं। आप सम्पूर्ण जगत की पीड़ा का नाश करने वाली है। जिससे समस्त शात्रों का ज्ञान होता है, वह मेधा शक्ति आप ही हैं। दुर्गा भव सागर से उतारने वाली भी आप ही है। आपका मुख मंद मुस्कान से सुशोभित, निर्मल, पूर्ण चन्द्रमा के बिम्ब का अनुकरण करने वाला और उत्तम सुवर्ण की मनोहर कान्ति से कमनीय है, तो भी उसे देखकर महिषासुर को क्रोध हुआ और सहसा उसने उस पर प्रहार कर दिया, यह बड़े आश्चर्य की बात है। कि जब देवी का वही मुख क्रोध से युक्त होने पर उदयकाल के चन्द्रमा की भांति लाल और तनी हुई भौहों के कारण विकराल हो उठा, तब उसे देखकर जो महिषासुर के प्राण तुरंत निकल गये, यह उससे भी बढ़कर आश्चर्य की बात है, क्योंकि क्रोध में भरे हुए यमराज को देखकर भला कौन जीवित रह सकता है। देवि! आप प्रसन्न हों। परमात्मस्वरूपा आपके प्रसन्न होने पर जगत् का अभ्युदय होता है और क्रोध में भर जाने पर आप तत्काल ही कितने कुलों का सर्वनाश कर डालती हैं, यह बात अभी अनुभव में आयी है, क्योंकि महिषासुर की यह विशाल सेना क्षण भर में आपके कोप से नष्ट हो गयी है। कहते है कि देवी चन्द्रघण्टा ने राक्षस समूहों का संहार करने के लिए जैसे ही धनुष की टंकार को धरा व गगन में गुजा दिया वैसे ही माँ के वाहन सिंह ने भी दहाड़ना आरम्भ कर दिया और माता फिर घण्टे के शब्द से उस ध्वनि को और बढ़ा दिया, जिससे धनुष की टंकार, सिंह की दहाड़ और घण्टे की ध्वनि से सम्पूर्ण दिशाएं गूँज उठी। उस भयंकर शब्द व अपने प्रताप से वह दैत्य समूहों का संहार कर विजय हुई।



मंत्र 

पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता | प्रसादं तनुते मह्यं चन्द्रघण्टेति विश्रुता ||

मां चंद्रघंटा की कृपा से साधक के समस्त पाप और बाधाएँ विनष्ट हो जाती हैं। इनकी आराधना सद्यः फलदायी है। माँ भक्तों के कष्ट का निवारण शीघ्र ही कर देती हैं। इनका उपासक सिंह की तरह पराक्रमी और निर्भय हो जाता है। इनके घंटे की ध्वनि सदा अपने भक्तों को प्रेतबाधा से रक्षा करती है। इनका ध्यान करते ही शरणागत की रक्षा के लिए इस घंटे की ध्वनि निनादित हो उठती है।



यह भी देखे :दुर्गाचालीसा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

श्रद्धा पूर्वक बोले यह आरती माँ अम्बे को प्रसन्न करे-

प्रेम से बोलो जय माता दी , अम्बे माता की जय| आरती अम्बे माँ की जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति। तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा...

बिना कुछ इन्वेस्ट किये कैसे earning करे और अपना business शुरू करे –

HOW TO EARN MONEY आज हम बात करेंगे ऐसे बिज़नस कि जिसमे आप बिना इन्वेस्ट किये कर सकते है earn. बस थोड़ी सी मेहनत से...

योगिनी एकादशी (17 जून 2020):कैसे करे पूजा,कथा व एकादशी माता आरती|

योगिनी एकादशी (17 जून 2020,बुधवार) YOGINI EKADASHI आषाढ़ मास कृष्ण पक्ष    वर्षभर में चौबीस एकादशी आती हैं और लौंद मास में 26 .आज हम योगिनी एकादशी के...

संकष्टी चतुर्थी(8 जून 2020) :पूजा विधि ,कथा, आरती , शुभ मुहूर्त :

संकष्टी चतुर्थी (8 जून 2020,सोमवार) SANKASTI CHATURTHI "पिंग चतुर्थी (PING CHAUTH)" (कृष्णपिंगल  गणेश ) KRISHANPINDGAL  GANESH आषाढ़  कृष्ण पक्ष : संकष्टी चतुर्थी हिन्दू धर्म का एक प्रसिद्ध त्यौहार है।जैसे...

Recent Comments